July 5, 2022

sikar-shekhawati-smachar

ताजा ख़बरें | नौकरी | शिक्षा | व्यापार

राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के अध्यक्ष उपेन यादव को किया गया गिरफ्तार, बेरोजगार आन्दोलन उग्र

शेखावाटी समाचार!!! राजस्थान रीट परीक्षा 2021 और पुलिस सुब इंस्पेक्टर परीक्षा में हुई धांधली के खिलाफ आवाज उठाने वाले राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के अध्यक्ष उपेन यादव को आज घर से गिरफ्तार कर लिया गया | कल रात से ही पुलिस उनके घर के बाहर तैनात थी | आज दोपहर 1 बजे शहीद स्मारक पर होने वाले आन्दोलन की कमर तोड़ने के लिए ये एक बड़ा दाव माना जा रहा है | ऐसे में ऑनलाइन सोशल प्लेटफोर्म्स पर आन्दोलन कर रहे रीट परीक्षार्थियों में भारी आक्रोश देखा गया | रीट परीक्षा में जहाँ एक ओर 20 लोगों को ससपेंड किया जा चुका है वहीँ राजस्थान सरकार अभी तक रीट परीक्षा 202’1 में धांधली से इनकार का रही हैं| इससे पहले भी बेरोजगार हितों के लिए उपेन मुखर रहें हैं और बहुत बार मांगे मनवाने में सफल भी रहे हैं ऐसे में उपेन यादव की गिरफ्तारी से बेरोजगार युवाओं के इस आन्दोलन के लिए एक बड़ा झटका समझा जा सकता हैं

 राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के अध्यक्ष उपेन यादव ने कहा था कि चाहे कुछ भी करना पड़े, लेकिन हम REET परीक्षा की निष्पक्ष जाँच करवाकर ही मानेंगे |

 Upen Yadav को गिरफ्तार करने के बाद बेरोजगारों नई सोशल मिडिया पर #उपेन_यादव_को_रिहा_करो नाम से हुआ ट्रेंडिंग हैं

उपेन यादव का कहना ये

राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष उपेन यादव का कहना है कि सब इंसपेक्टर के बाद अब रीट में भी पेपर लीक प्रकरण सामने आया है. लेकिन सरकार इस पूरे मामले की लीपापोती में जुटी है. जबकि हकीकत में इस पूरे प्रकरण में काफी लोग अब भी पुलिस की पकड़ से बाहर है. ऐसे में बेरोजगार एकीकृत संघ की मांग है कि प्रकरण की जांच एसओजी करें और अगर ऐसा नहीं होगा तो बेरोजगार महासंघ द्वारा आंदोलन किय़ा जाएगा.

उपेन यादव ने ट्वीट कर दी जानकारी

उपेन यादव (Upen Yadav) ने एक वीडियो ट्वीट किया है जिसमें पुलिस उन्हें अरेस्ट करती हुई नजर आ रही है. इसके साथ उन्होंने लिखा कि पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया है और सवाल उठाया कि क्या बेरोजगारों की मांगों को उठाना अपराध है?

रीट मामले में सरकार की कार्रवाई

सरकार की और से भी रीट मामलों में एक्शन लेना शुरु कर दिया गया है. सरकार ने अब तक 1 आरएएस, 2 आरपीएस और सवाई माधोपुर के जिला शिक्षा अधिकारी सहित 20 अधिकारियों-कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया है. इसमें 3 कांस्टेबल भी शामिल है. जिन्हें जांच में दोषी पाए जाने पर बर्खास्त किया जाएगा. रीट परीक्षा के दौरान इन सबकी भूमिका संदिग्ध पायी गई थी.

विपक्ष ने भी इस की कड़ी निंदा की हैं